LATEST:


There was an error in this gadget

Sunday, July 5, 2009

गे ग्‍लोबलाइजेशन का जश्‍न....साभार बीबीसी हिन्‍दी ब्‍लॉग

भारतीय मीडिया लाख दावे करे लेकिन जनता की नब्‍ज पकड़ने की बात आती है तो बीबीसी से बेहतर शायद कोई नहीं. समलैंगिकता के सवाल पर बीबीसी हिन्‍दी ब्‍लॉग पर राजेश प्रियदर्शी की एक बहुत ही यथार्थ टिप्‍पणी आयी है, जिसे आप जरूर पढ़ें. ब्‍लॉगर मित्रों की सुविधा के लिए हम उसे यहां भी साभार प्रस्‍तुत कर रहे हैं. चित्र यहां से लिया गया है, जो थोड़ा असहज करनेवाला है....लेकिन समलैंगिक मान्‍यताओं वाले समाज में इन दृश्‍यों से आप बच कैसे सकते हैं. बहरहाल आप पढ़ें राजेश प्रियदर्शी के विचारों को और अपने विचारों से भी हमें अवगत कराना नहीं भूलिएगा :

अब से दसेक साल पहले तक लोग आँख मारकर कहते थे, "इनके शौक़ ज़रा अलग हैं." 'नवाबी शौक़', 'पटरी से उतरी गाड़ी', 'राह से भटका मुसाफ़िर' जैसे जुमलों में तंज़ था लेकिन तिरस्कार या घृणा की जगह एक तरह की स्वीकार्यता भी थी.

हमारे स्कूल में बदनाम मास्टर थे, हमारी गली में मटक-मटकर चलने वाले 'आंटी जी' थे, भारत की राजनीति में कई बड़ी हस्तियाँ थीं जिनकी 'अलग तरह की रंगीन-मिजाज़ी' के क़िस्से मशहूर थे लेकिन धारा 377 का नाम अशोक राव कवि के अलावा ज्यादा लोगों को पता नहीं था.

भारत ऐसा देश है जहाँ अर्धानारीश्वर पूजे जाते हैं, किन्नरों का आशीर्वाद शुभ माना जाता है, बड़े-बड़े इज़्ज़तदार नवाब थे जिनकी वजह से 'नवाबी शौक़' जैसे मुहावरे की उत्पत्ति हुई, वहीं छक्के और हिजड़े दुत्कारे भी जाते हैं.

ये सब अलग-अलग दौर की, अलग-अलग तबक़ों की, अलग-अलग सामाजिक संरचनाओं की बातें हैं लेकिन भारतीय चेतना में विवाह के दायरे में संतानोत्त्पति से जुड़े सर्वस्वीकृत विषमलिंगी सेक्स के इतर एक पूरा इंद्रधनुष है जिसमें सेक्स और मानव देह से जुड़े सभी तरह के रंग रहे हैं, उसकी बराबरी किसी और समाज में नहीं दिखती.

लेकिन नए मिलेनियम में ऐसा कैसे हुआ कि क्वीर, ट्रांसवेस्टाइट, ट्रांससेक्सुअल, ट्रांसजेंडर, थर्ड सेक्स, ट्रैप्ड इन रॉन्ग बॉडी....न जाने कितने नए विशेषण अचानक हमारे बीच चले आए जिनका सही अर्थ ढूँढ पाना विराट यौन बहुलता वाली भारतीय संस्कृति के लिए बड़ी चुनौती बन गया.

नए मिलेनियम में ऐसा क्या था जिसने भारतीय समाज के भीतर चुपचाप बह रही समलैंगिकता की धारा को सड़कों पर ला दिया, गे प्राइड मार्च सिर्फ़ कुछ वर्ष पहले तक भारत में कल्पनातीत बात थी.

मेरी समझ से सिर्फ़ एक चीज़ नई थी वह है ग्लोबलाइज़ेशन.

'गर्व से कहो हम गे हैं' का नारा 1960 के दशक के अंत में अमरीका के स्टोनवाल पब से शुरू हुए दंगों से जन्मा और दो दशक के भीतर पूंजीवादी पश्चिमी समाज में एक मानवाधिकार आंदोलन के रूप में फैल गया, 1990 आते आते यूरोप और अमरीका में लगभग पूरी राजनीतिक स्वीकार्यता मिली लेकिन समाजिक स्वीकार्यता आज भी बेहद मुश्किल है.

दिल्ली हाइकोर्ट ने सहमति से होने वाले समलैंगिक यौनाचार को क़ानूनन अपराध की श्रेणी से हटा दिया तब जिस तरह का जश्न मना उससे यही लगा कि भारत में यही एक बड़ा मुद्दा था जो हल हो गया है, अब भारत दुनिया के अग्रणी देशों की पांत में खड़ा हो गया है.

निस्संदेह आधुनिक पूंजीवादी पाश्चात्य लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुरुप यह न्यायसम्मत फ़ैसला है, जो जश्न मना रहे हैं उनमें सिर्फ़ एलजीटीबी (गे, लेस्बियन, ट्रांससेक्सुअल एंड बाइसेक्सुअल) समुदाय के ही लोग नहीं हैं, मेरे पढ़े-लिखे, विवाहित, बाल-बच्चेदार, फेसबुक वाले, मल्टीनेशनल वाले, शिक्षित-सभ्य सुसंकृत शहरी दोस्त भी हैं.

जश्न मनाने वालों से मुझे कोई शिकायत नहीं बल्कि उन्हें ही मुझसे है कि मैं इसे एक महान क्रांतिकारी घटना के तौर पर देखकर उनकी तरह हर्षित क्यों नहीं हो रहा हूँ.

मेरे दोस्तों, मेरा मानना है कि यह उन चंद सौ लोगों का दबाव था जो भारत को पश्चिमी पैमाने पर एक विकसित लोकतंत्र के तौर पर सेलिब्रेट करना चाहते हैं. जल्दी ही आप देखेंगे कि भारत में 'क्रुएलिटी अगेंस्ट एनिमल' को रोकने के लिए आंदोलन चलेगा, एक कड़ा क़ानून बनेगा और आप फिर जश्न मनाएँगे.

जब मैं छत्तीसगढ़ और झारखंड की लड़कियों की तस्करी, किसानों की आत्महत्या, आदिवासियों और दलितों के शोषण, भूखे बेघर बच्चों की पीड़ा का मातम मनाता हूँ, जब मैं उम्मीद की क्षीण किरण 'नरेगा' को लेकर उत्साहित हो जाता हूँ तब आप मेरे सुख-दुख कहाँ शामिल होते हैं.

18 comments:

  1. एक अच्छा और तर्कपूर्ण चिन्तन।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  2. अब का कहें भैया? जो है सो है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. सही कहा आपने महज़ कुछ सौ लोगों के जश्न को सारे देश ने जश्न मनाया कह कह कर खुश होने वालो को कभी भुखमरी और बेकारी के बारे मे भी सोचना चाहिये।चंद रूपयों के लिये लोग अपने जिगर का टुकडा बेचने को मज़बूर है और दो वक्त की रोटी नही जुगाड पाने से परेशान होकर जान तक़ दे रहे है,पता नही उनके लिये कब कोई अशोक जागेगा और देश को अपनी मर्ज़ी से हिला देने वाले लोग इस मामले पर बहस करके देश को असली जश्न मनाने का मौका देंगे।

    ReplyDelete
  4. सही और सार्थक चिन्तन शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. वाकई जिस तरह से हल्ला मचा ऐसा लगा जैसे देश ने क्रान्ति की दुनिया की कोई खिड़की खोली है ....अब तक समझ नहीं पाया इसमें इतराने की कौन सी बात है ????

    ReplyDelete
  6. हमारे यहाँ एक जज संबिधान को चुनौती दे देता है वह भी गे के लिए . इससे भी ज्यादा गम है ज़माने में

    ReplyDelete
  7. आप ने सही रग पकडी है, लेकिन एक मछली ही पुरे तालाब को गंदा कर देती है, ओर यह दो चार गे ओर इन की हराम की ओलादो ने भारत के माथे मै गै शव्द तो लिख दिया, इस शव्द को सुन कर हम आग बुलवुला हो जाते है, आज ...
    बहुत सही ढंग से आप ने चिंतन दिया धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. हम तो हमेशा शामिल होते हैं अशोक जी, अलबत्ता आप आजकल पता नहीं कहां खोए खोए रहते हैं।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  9. कुछ सौ नहीं है, हमारे देश में ये जितने भी जी साब, जी साब.. करते हुए आगे पीछे घूमते रहते है, ये क्या है, वही तो है सब !

    ReplyDelete
  10. देश हर मामले में तरक्की कर रहा है तो इसमे क्यों पीछे रहे वैसे भी हमें आदत पद चुकी है विदेशियों का अनुसरण करने की .

    ReplyDelete
  11. यह पोस्ट भी देखी थी और आपका कमेण्ट भी बीबीसी पर। अपना भी सोचना वैसा है जैसा आपने लिखा।

    ReplyDelete
  12. आपका ब्लॉग खोलने के दस मिनट पहले ही बी बी सी पर यह आलेख पढ़ा.

    ReplyDelete
  13. बेहद प्रभावशाली लेख !

    ReplyDelete
  14. 1. आपने अपने ब्लाग पर न जाने कौन सा अजीबो गरीब विजिट जोडा है जो मेरे IE से पंगे लेता है और साईट बन्द हो जाती है. कोई पॉप-अप खोलने की घृष्टता जो मेरी सेटिंग को पसंद नही है - कृपया चेक करें.
    २. ये भी देखें - शायद आपको पसंद आए -
    http://www.kalpana.it/hindi/blog/2007/01/blog-post_23.html

    ReplyDelete
  15. @ ईस्‍वामी, हीवाह शीवाह ...... वाह वाह :)

    महाराज तकनीक में अनाड़ी हूं। कृपया बताएं कि किस विजिट ने जुर्रत की...अभी सर कलम कर देते हैं :)

    ReplyDelete

अपना बहुमूल्‍य समय देने के लिए धन्‍यवाद। अपने विचारों से हमें जरूर अवगत कराएं, उनसे हमारी समझ बढ़ती है।

Related Posts with Thumbnails
 
रफ़्तार Visit blogadda.com to discover Indian blogs Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा चिट्ठाजगत www.blogvani.com