LATEST:


There was an error in this gadget

Saturday, March 26, 2011

नयी फसल से उपजी तृप्ति का गान : चैता

फागुन बसंत की तरुणाई है तो चैत प्रौढ़ावस्‍था। यह बसंत के वैभव का माह है। इसमें बसंत समृद्ध होकर बहार बन जाता है। वृक्षों में लगे मंजर फल बन जाते हैं, अनाज की बालियां पक कर सुनहली हो जाती हैं। धरती का रंग ही नहीं बदलता, लोगों का मिजाज भी बदल जाता है। फागुन में मतवाला बना मन चैत में भरा-पूरा खलिहान व अन्‍न-कोठार देखता है तो उसमें थिराव आ जाता है और कंठ से तृप्ति के बोल फूट पड़ते हैं। चैती फसल से आयी तृप्ति से उपजे इस गायन को चैता या चैती नाम दिया गया। इन गीतों में तृप्ति का भाव इतना प्रबल होता है कि नायिका मौजूदा प्राकृतिक परिवेश की ही तरह खुद को भी भरा-पूरा रखना चाहती है। वह मनभावन सिंगार करना चाहती है, और चाहती है कि उसका प्रियतम हमेशा उसके साथ रहे। प्रियतम की क्षण भर की जुदाई भी प्रिया को मंजूर नहीं। यदि प्रियतम दूर है तो वैभवशाली चैत में भी प्रिया विरहिणी बन जाती है। इसलिए चैती में विरह का स्‍वर भी प्रमुखता से मौजूद रहता है। चूंकि चैत प्रभु श्री राम के जन्‍म का माह है, इसलिए भगवान राम को संबोधित कर ही चैता गाने की परंपरा है। यही कारण है कि चैता के बोल में ‘रामा’ जरूर आता है। कृषि संस्‍कृति से जुड़ी इस समृद्ध लोक गायकी के कुछ नमूनों को हम खेती-बाड़ी में भी सहेजना चाहते हैं। प्रस्‍तुत है सुप्रसिद्ध शास्‍त्रीय गायक पद्मभूषण पं. छन्‍नूलाल मिश्र की गायी यह चैती :

सेजिया से सइयां रूठि गइले हो रामा
कोयल तोरि बोलिया

रोज तू बोलैली सांझ सबेरवा
आज काहे बोलै आधी रतिया हो रामा
कोयल तोरि बोलिया ..

होत भोर तोरे खोतवा उजड़बो
और कटइबो पनबगिया हो रामा
कोयल तोरि बोलिया ..

10 comments:

  1. पं. छन्‍नूलाल मिश्र जी की चैती बहुत लुभावनी लगी जी, धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. आपका यह ब्लॉग अनूठा और आपका प्रयास सराहनीय है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  3. जुग जुग जिय..अ पांडे जी मस्त कर दिए सुनाकर यी चैतवा हो ...!

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया ....जितनी सुंदर पोस्ट उतना ही सुंदर गीत .....

    ReplyDelete
  5. आपका प्रयास सराहनीय है|बहुत बढ़िया|

    ReplyDelete
  6. kyaa baat, kyaa baat...kyaaaaa baaaaat!!!!!

    ReplyDelete
  7. आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा ... और आपका यह पोस्ट भी ... मेरे ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  8. नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. पं. छन्‍नूलाल मिश्र जी की चैती उपलब्ध कराने हेतु साधुवाद.

    ReplyDelete

अपना बहुमूल्‍य समय देने के लिए धन्‍यवाद। अपने विचारों से हमें जरूर अवगत कराएं, उनसे हमारी समझ बढ़ती है।

Related Posts with Thumbnails
 
रफ़्तार Visit blogadda.com to discover Indian blogs Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा चिट्ठाजगत www.blogvani.com