LATEST:


There was an error in this gadget

Saturday, September 27, 2008

जीएम फूड : दाने दाने पर लिखा होगा बनानेवाले का नाम


दाने दाने पर लिखा है, खानेवाले का नाम। यह कहावत आपने जरूर सुनी होगी। लेकिन अब हमें उस समय के लिए तैयार रहना चाहिए, जब कहना पड़े, 'दाने दाने पर लिखा है, बनानेवाले का नाम।' हाल के वर्षों में मोंसैंटो, सिनजेंटा, बीएएसएफ आदि जैसी बहुराष्‍ट्रीय निजी कंपिनयों द्वारा तैयार जीन संवर्धित (Genetically Modified) बीजों का दबदबा जितनी तेजी से बढ़ रहा है, उसका यही निहितार्थ है।

जीएम पौधों का उत्‍पादन जेनेटिक इंजीनियरिंग विधि से किया जाता है। इसमें आनुवांशिक सामग्री मिलाकर फसल के गुण बदलते हैं। जींस के हस्‍तांतरण का यह कार्य प्रयोगशाला में होता है। उसके बाद उस फसल की प्रायोगिक खेती (Field Trials) कर उसे परखा जाता है। तत्‍पश्‍चात व्‍यापारिक रूप से फसल का उत्‍पादन किया जाता है।

जीएम फूड की स्‍वीकार्यता को लेकर दुनिया भर में विवाद रहा है। जीन का हस्‍तांतरण प्रकृति के विधान के विरुद्ध कार्य है तथा जरूरी नहीं कि इसके परिणाम अच्‍छे ही हों। इसको लेकर अनेक लोगों की नैतिक और धार्मिक आपत्तियां रहती हैं। खासकर शाका‍हारियों को आशंका रहती है कि इस भोजन में मानव व पशु जीन न हों। पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) पर जीएम फसलों के साइड इफेक्‍ट होने की खबरें भी आती रहती हैं। वैसे भी निजी कंपनियों का मुख्‍य उद्देश्‍य मुनाफा होता है तथा इसके लिए वे बहुत सी अनुचित बातों को नजरअंदाज कर सकती हैं। इन कंपनियों पर भारत जैसे गरीब देशों में चोरी-चुपके फील्‍ड ट्रायल करने के आरोप भी लगते रहे हैं।

अभी तो एशियाई देशों खासकर भारत में पारंपरिक फसलों का महत्‍व बरकरार है। लेकिन भारत में भी मोनसेंटो और महीको (महाराष्‍ट्र हाइब्रिड सीड कंपनी) कंपनियों के बीटी (बैसिलस थ्यूरेनजिएन्सिस) कपास बीज तमाम विरोध के बावजूद देश के कई हिस्‍सों में उगाए जा चुके हैं और उनके रकबे में लगातार विस्‍तार हो रहा है। यही नहीं, बीटी बैगन जैसे कई अन्‍य जीन संवर्धित फसलों की प्रायोगिक खेती शुरू हो चुकी है और अगले वर्ष से उन्‍हें बाजार में व्‍यावसायिक तौर पर उपलब्‍ध कराए जाने की योजना है।

जीएम सीड के बढ़ते हुए दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसके कारोबार में लगी अमरीकी कंपनी मोनसेंटो, यूरोपीय कंपनी सिनजेंटा तथा जर्मन कंपनी बीएएसएफ ने पिछले वर्ष अरबों रुपये डॉलर का मुनाफा बटोरा। कुछ साल पहले तक विश्‍वव्‍यापी विरोध के कारण मोंसैंटो को जहां वर्ष 2003 में 2 करोड़ 30 लाख डालर का घाटा उठाना पड़ा था, उसीने वर्ष 2007 में एक अरब डॉलर का मुनाफा कमाया। यूरोप की जिनसेटा ने बीते वर्ष एक अरब 10 करोड़ डॉलर का शुद्ध लाभ अर्जित किया, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 75 फीसदी अधिक रहा। इन कंपनियों के बीज आज पराग्वे से लेकर चीन तक और भारत से लेकन अर्जेंटीना तक धड़ल्ले से बिक रहे हैं।

भारत में घाटे का सौदा हो चुकी खेती के भंवरजाल में फंसे किसानों को जीन संवर्धित हाइब्रिड बीज काफी लुभा रहे हैं। कृषि विशेषज्ञों द्वारा भी कहा जा रहा है कि कृषि उपज वृद्धि में आ चुके ठहराव को हाइब्रिड बीज ही गति दे सकते हैं। विश्‍वव्‍यापी खाद्य संकट ने भी जीन संवर्धित फसलों की स्‍वीकार्यता की राह आसान बनायी है।

जीएम फसल जब अधिक उपज देंगे तो कोई भी किसान गैर-जीएम पारंपरिक फसल नहीं उगाना चाहेगा। भविष्‍य में यह भी हो सकता है कि जीएम फसलों के अपमिश्रण से पारंपरिक फसल दूषित होकर विलुप्‍त हो जाएं। चूंकि जीएम बीजों के उत्‍पादन का करीब सारा कारोबार निजी बहुराष्‍ट्रीय कंपनियों के नियंत्रण में है, इसलिए वह दिन दूर नहीं जब हमारे भोजन के हरेक दाने पर किसी न किसी बहुराष्‍ट्रीय कंपनी का नाम लिखा हो। यह भी संभव है कि तब हम फसलों को धान, गेहूं, अरहर, आलू, बैंगन, कपास जैसे उनके पारंपरिक नामों के बजाय ब्रांडनेम (पेप्‍सी व कोकाकोला की तरह) से जानें।

(फोटो बीबीसी हिन्‍दी से साभार)

28 comments:

  1. मोनसान्टो जैसी कम्पनियाँ मुझे बिलकौअल पसँद नहीँ.भारतीय किसानोँ को अपनी मूल उपज को
    हाई ब्रीड बीज से दूर रहना चाहीये. पर सब पैसे की माया है :-(

    -लावण्या

    ReplyDelete
  2. यह तो अब एक विश्वव्यापी मामला है -आप से इस तरह के पराजीनी फसलो की स्वीकार्यता के सवाल पर चिंतन की अपेक्षा है!
    मतलब ये कि आप इसके पक्ष में हैं या विपक्ष में !

    ReplyDelete
  3. main to shakt khilaf hun is tarah ke bhojan ke.

    ReplyDelete
  4. यह खाने इंसानो तो क्या जानवरो के लिये भी ठीक नही, युरोप मे ऎसे खाने बिलकुल मना हे,हमारे यहां अगर ऎसे खाने आ गये तो ... भगवान ही रखवाला हो गा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. बहुत खतरनाक असर सुने है इस तरह की फसलों के ! पर
    कौन रोकेगा इनको ?

    ReplyDelete
  6. अशोक जी बात तो आपने बड़ी जोरदार उठाई है ! जब ये पूरा युग ही पैसे
    का खेल हो गया है तो इंसानियत और स्वास्थय ये सब बातें गौण हो गई
    हैं ! आपको वही खाना है जो ये मल्टी नेसनल्स आपको खिलाये और फ़िर
    १७६० बीमारियाँ पकड़ लेंगी तब इनकी ही दवाइयाँ खाओ ! मतलब अब
    इनके चंगुल में फंस गए हो ! अब कहाँ वो स्वाद अन्न में रह गया है ?

    ReplyDelete
  7. आपकी चिंताएं स्वाभाविक हैं मगर जब दुनिया पर मुट्ठी भर लालची दुकानदारों का कब्ज़ा हो तो स्वाभाविक चिंताएं अन्तिम प्राथमिकता पाती हैं.

    ReplyDelete
  8. भारतीय खेती-बाडी पर छा रहे संकट के बादलों पर आपकी चिन्ता स्वाभाविक है।

    ReplyDelete
  9. बिल्कुल सही। छत्तीसगढ मे सिंजेंटा ने धान पर कब्जा खरने की भरपूर कोशिश की थी,पत्रकार साथियों समेत सभी ने इसक जमकर विरोध किया था तब जाकर लौटी थी सिंजेंटा

    ReplyDelete
  10. सचमुच यह चिंता का विषय है ....बहुत कुछ इस के बारे में आपकी इस पोस्ट से ही जाना ..

    ReplyDelete
  11. अत्यंत सटीक और संतुलित जानकारी के लिए धन्यवाद। जीएम फूड की स्‍वीकार्यता को लेकर दुनिया भर में विवाद रहा है। निजी कंपनियों का मुख्‍य उद्देश्‍य मुनाफा होता है तथा इसके लिए वे बहुत सी अनुचित बातों को नजरअंदाज कर सकती हैं।
    खेती जारी रहे...जय किसान...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर और विचारात्मक लेख लिखा है. बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  13. वैसे इस प्रयास को गलत नही कहा जा सकता क्योकि ये एक अर्थो मे उत्पादकता ही बढा रही है जब हम बिना सोचे जनसंख्या बढा रहे है तब ऐसी तरकीब की आवश्यकता लाजमी है !

    ReplyDelete
  14. यह भी संभव है कि तब हम फसलों को धान, गेहूं, अरहर, आलू, बैंगन, कपास जैसे उनके पारंपरिक नामों के बजाय ब्रांडनेम (पेप्‍सी व कोकाकोला की तरह) से जानें।
    oh...
    हद है भाई........

    ReplyDelete
  15. सच में चेता दिया आपने .....उस दिन की कल्पना करके ही काँप जाता हूँ

    ReplyDelete
  16. यह भी संभव है कि तब हम फसलों को धान, गेहूं, अरहर, आलू, बैंगन, कपास जैसे उनके पारंपरिक नामों के बजाय ब्रांडनेम (पेप्‍सी व कोकाकोला की तरह) से जानें।

    बहुत दूर की सोची है आपने। यकीनन एक दिन ऐसा ही होगा।

    ReplyDelete
  17. ये बहुराष्‍ट्रीय कम्‍पनियॉं खेती के लिए खतरे की घण्‍टी हैं। खेती लोगों का जीवन है इसे बरबाद करने से रोकने की कोशिश की जानी चाहिए।
    यह तो प्रक्रिति् के साथ भी छेडछाड़ है हमें इससे बचने के बारे में भी सोचना होगा।

    ReplyDelete
  18. अशोक जी, हम अक्सर परिवर्तन को सहज स्वीकार नहीं करते,गेहूं को गैप्सी कहना तो पसंद नहीं करेंगे, पर इसके दोनों पहलुओं पर विचार होना चाहिए।

    ReplyDelete
  19. ये सब जानकारी देने के लिये धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. bahut hi informative jaankaari di hai...Thanks a lot

    ReplyDelete
  21. Split up specific meal, mixing scenarios. Just a few bettors come zones
    that will push and formulate racket, and many fans carry out
    the program. These are definitely a mild together with crumbly cookie,
    typically utilised an accompaniment and tea leaf. Commonly do not retain every little thing
    in easy reach with their crib guarantee that one particular isn't really tempted to other people aren't absent whilst topple compared to.
    A synchronous engine is certainly Air cooling (ac) train's motor identified by a number of quick products, a good solid stator having a rotor.

    My site: Brain Consolo

    ReplyDelete
  22. Foodstuff may just be steamed across perforated together with potent griddles.
    Scent Toaster oven Stove tops 're premium, world class ainexploitable furthermore very objects from honest home business. These sorts of silicon cooktop work gloves may be a lot of different areas, off Twelve millimeter and Seventeen-year-old inside. Happens to be have become 15-inch turn table, the person sign sensor / probe barbecuing keep-warm food list that is exceptionally very beneficial.

    my weblog: Sebastian Zavacky

    ReplyDelete
  23. One example, Fruit and then sweetheart is a well-liked taste additive
    needed for Mamaki Green teas. Using Breakfast time Burrito it's possible to make the item a night earlier to the application of left over spots on dessert and in addition chill that it. Hair salons all over the world are probably filling your stunning curly hair tinsel. Modeler whilst Arrangement was compiled to develop doing the job situations for particular uses.

    My web-site: Armand Sorenson

    ReplyDelete
  24. Take into account: beneficial asset . can be your small business wearer's most useful device, that being said acquiring revolutionary put in onto the sort of the trailer is incredible theory. Wolf appliances for the kitchen discounts may luxury and soon you be aware the additional value to become collecting for your cash. Whenever there is many symptom of shape, which has different heavy-duty typical reason to make sure you eliminate it also. Place on each sheet and as well as have to salsa verde on bitter face cream. Regrettably have you considered items that most people actually purchase those disclose they really are gluten-free. Most of the stalks to the Mamaki factory are probably nutritionally packed however, if ought to get rid of any individual woody starts in which are in the end.

    My site; Yu Manasse

    ReplyDelete
  25. Lots of best for cleanup one particular ailing liver
    digestive-tract. Very good. It ought to be well away from any flames, to have age.
    l.

    Look into my web site; Kelsey Deslaurier

    ReplyDelete
  26. Dispose of 50 percent of usually the intense item too parcel related to all types of berries from a Ninja Food
    processor. Thererrrs perhaps heat therapy,
    not for hurting on the other hand warm, and much lower involvement required due to stuff your site put together through a Finnish oven.
    Almost all of the house guests will definitely consider those computer and all sorts of perfect products on are definitely considered at
    this point.

    My website - 24 double wall oven stainless steel

    ReplyDelete
  27. A person will then take efforts, energy and your money you can lay aside you will applying a lasagna oven that
    will assist fit everything in now we have announced on this page.

    Three of the core strategies to stove cookery angling were the, steaming plus
    range burning. To the flavors connected with Med food, Spain's capital certainly one of us decent cities may well be worthy of visit inside the course of Festive Clean Summers age. It could possibly reduce in size back up to it truly is very first value and if make patted curved any more. Model afternoon When i made plate of such pastries, finally sprang will be the tray while in the the oven, and placed all minutter. Excellent may be steamed using perforated or even pure kitchenware.

    My web blog - 27 stainless single wall oven

    ReplyDelete

अपना बहुमूल्‍य समय देने के लिए धन्‍यवाद। अपने विचारों से हमें जरूर अवगत कराएं, उनसे हमारी समझ बढ़ती है।

Related Posts with Thumbnails
 
रफ़्तार Visit blogadda.com to discover Indian blogs Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा चिट्ठाजगत www.blogvani.com