LATEST:


There was an error in this gadget

Thursday, April 2, 2009

वैज्ञानिक करें सिक्‍यूरिटी गार्ड का काम, तो कैसे हो कृषि अनुसंधान !


मीडिया में पिछले दिनों प्रोफेसर विजय भोसेकर की खबर आयी थी, जिसे शायद आपने देखा हो। गोल्‍ड मेडल से सम्‍मानित भारत का यह कृषि वैज्ञानिक इन दिनों कनाडा के टोरंटो शहर में सिक्‍यूरिटी गार्ड का काम कर रहा है। मजेदार तथ्‍य यह है कि प्रो. भोसेकर को गोल्‍ड मेडल किसी ऐरू-गैरू संस्‍था ने नहीं बल्कि देश में कृषि अनुसंधान के अग्रणी संगठन भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने दिया है। और ये हालात तब हैं जबकि आईसीएआर की विभिन्‍न संस्‍थाओं में कृषि वैज्ञानिकों के करीब 2500 पद खाली हैं।

घोषित तौर पर कृषि क्षेत्र सरकार के एजेंडा में भले ही सबसे ऊपर हो लेकिन जमीनी सच्‍चाई हमेशा इसके विपरीत ही नजर आती है। जिस देश में कृषि वैज्ञानिकों की कमी की बात कही जा रही हो, वहां के कृषि वैज्ञानिक का दूसरे देश में जाकर असम्‍मानजनक काम करना देश में कृषि विज्ञान की उपेक्षापूर्ण स्थिति का ही परिचायक है।

कृषि विज्ञान में पीएचडी हासिल कर चुके भोसेकर पूर्व में आंध्रप्रदेश की राजधानी हैदराबाद में यूनिवर्सिटी प्रोफेसर थे। उन्‍होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उन्‍हें सुरक्षा प्रहरी की पोशाक पहन भवनों की पहरेदारी करनी पड़ेगी। हालांकि अप्रैल, 2005 में कनाडा जाने के बाद से इस 49-वर्षीय शख्‍स को यही करना पड़ रहा है। कनाडा जाने के बाद उन्‍हें पता चला कि वहां भारतीय डिगरियों की मान्‍यता नहीं है। मजबूरन परिवार का खर्च चलाने के लिए उन्‍हें 10 डॉलर प्रति घंटे के हिसाब से सिक्‍यूरिटी गार्ड की नौकरी करनी पड़ रही है।

इधर अपने देश में कृषि अनुसंधान का हाल यह है कि इस क्षेत्र में वैज्ञानिकों की घोर कमी है, जिसके चलते कई परियोजनाओं के ठप पड़े होने की बात कही जाती है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के विभिन्‍न संस्‍थानों के कृषि वैज्ञानिकों के करीब 38 फीसदी अर्थात 2500 पद खाली हैं। आईसीएआर कृषि अनुसंधान और विकास के लिए कार्य करनेवाला देश का सर्वोच्‍च संगठन है, जिसके अधीन पूरे देश में 47 संस्‍थान हैं। इन संस्‍थानों में कृषि, मवेशीपालन, मछलीपालन आदि क्षेत्रों में अनुसंधान का काम होता है। आईसीएआर के विभिन्‍न अनुसंधान संस्‍थानों में कृषि वैज्ञानिकों के कुल 6500 पद हैं, जिनमें करीब 38 फीसदी रिक्‍त पड़े हैं। खबरों के मुता‍बिक आईसीएआर के अंतर्गत काम करनेवाले भारतीय कृषि अनुसंधान संस्‍थान (आईएआरआई) में वैज्ञानिकों के कुल करीब 680 पद हैं, जिनमें 280 रिक्‍त पड़े हैं। बताया जाता है कि देश के उत्‍तर-पूर्व के संस्‍थानों में तो और भी बुरा हाल है, जहां कृषि वैज्ञानिकों के लगभग 50 फीसदी पद खाली हैं। इसी प्रकार विभिन्‍न प्रांतों के अधिकारक्षेत्र में आनेवाले कृषि विश्‍वविद्यालयों में भी स्थिति रूचिकर नहीं है।

जिस देश की अधिकांश जनता जीविकोपार्जन के लिए कृषि पर आश्रित हो, वहां कृषि वैज्ञानिकों के पदों का रिक्‍त रहना यही साबित करता है कि कृषि शिक्षा और अनुसंधान सरकार की प्राथमिकता में शामिल नहीं है। इससे अधिक दुर्भाग्‍य की बात कुछ भी नहीं हो सकती कि जिस देश में कृषि वैज्ञानिकों की इतनी कमी हो, प्रो. भोसेकर जैसे वैज्ञानिक विदेश जाकर मकानों की पहरेदारी करें।

28 comments:

  1. विचारणीय आलेख-चिन्ताजनक स्थितियाँ.

    ReplyDelete
  2. अमरीका के किसी भी कार्यक्षेत्र मेँ , यहीँ की समकक्ष परीक्षा देने के बाद ही आपको यहाँ पर नौकरी मिलती है -
    एक प्राँत से दूसरे अगर टीचर का काम भी करना हो तब, पुन: सर्टीफिकेट लेना पडता है यही कायदा है -
    और डाक्टरी या कृषि विशेशज्ञ को भी शायद यहाँ परीक्षा देनी अनिवार्य हो -
    ये मामला वाकई चिँताजनक है -

    - लावण्या

    ReplyDelete
  3. पाण्डेय जी ,
    यह दो गंभीर स्थितियों की और संकेत करता है -एक तो यह कि भारतीय क्रषि विज्ञान की पढ़ाई का स्तर ही वैश्विक स्तर का ही नहीं है -और यह कुछ हद तक सही भी है ! यहाँ पुरस्कारों की रेवडियाँ इस कदर बंटी हैं कि प्रतिभा उसमें दब गयी है ! दूसरे धनलोलुपता में लोगबाग देश सेवा छोड़ कर विदेश जाते हैं -कदाचित यह हो कि वे सज्जन इसी काबिल हों जिस के लिए उन्हें हर घंटे कुछ डालर दे दिए जा रहे हैं !

    ReplyDelete
  4. सरकार की ओर से कृषि क्षेत्र को गंभीरता से न लिए जाने का दुष्‍परिणाम ही तो किसान झेल रहे हैं ... करे कोई भरे कोई।

    ReplyDelete
  5. आपका ये लेख और प्रोफ़ेसर विजय भोसेकर की कथा बड़ी विचित्र है. मुझे ये समझ में नहीं आया की अगर विजय भोसेकर के पास डिग्री नहीं थी तो उनको वीसा कैसे मिला. कनाडियन दूतावास (http://geo.international.gc.ca/asia/new-delhi/ ) के सूचना के अनुसार वर्क परमिट कनाडा जाने से पहले ही मिलना चाहिए,
    if you to work in Canada, you must get a work permit before coming to Canada. This can only be done once you have been offered a job in Canada and your prospective employer has demonstrated to a Human Resources and Social Development Centre (HRSDC) in the city where the job is located, that the employment opportunities of Canadian citizens and residents will not be adversely affected.

    और अगर कोई व्यक्ति कनाडा में इम्मिग्रेट कर रहा है तो उसको वह पर काम करने के लिए कुछ शर्ते है, जिनमे से एक प्रमुख पंक्ति को आप निचे पढ़े.

    Once your job offer confirmation has been issued by HRSDC, you will then need to apply for a Work Permit from the visa office.be a skilled worker who has at least one year of experience in one or more of the following occupations:

    और इस लिस्ट में
    ४१२१: University Professors
    भी शामिल है.
    रही बात भारतीय डिग्री के न मानने की तो अगर डिग्री की मान्यता नहीं थी तो वर्क परमिट कैसे मिला.
    इसका एक ही तरीका हो सकता है की भोसेकर कनाडा विजिटिंग वीसा पे गए हो (जिसके लिए वर्क परमिट की जरुरत नहीं होगी ) और वहा जा के वो इम्मिग्रेंट बने हो.
    २५०० पोस्ट खाली रहने की तो इसमे गलती दोनों तरफ से है, जहा भारत में नौकरी के लिए तमाम तरह के गणित की आवस्यकता होती है, वही विजय भोसेकर जैसे लोग भी है, जो सरकारी नौकरी पाते है, और फिर भाग जाते है. और सच पूछिये तो विजय भोसेकर जैसे लोगो के लिए दुनिया के किसी कोने में दया नहीं दिखाई जानी चाहिए, आखिर वो भारत में पढ़े (जिसके लिए निश्चित रूप से विदेशो की तुलना में उनको बहुत कम धन खर्च करना पड़ा होगा ) और उससे भी बड़ी बात की उनके पास एक रोजगार भी था (अगर पढ़ने के बाद बेरोजगार होते तो उनका रोजगार की तलाश में विदेश जाना दूसरी बात है), यह अवसर बादी लोग है, और इनके साथ जो भी हो रहा हर ठीक हो रहा है. वैसे भी विजय भोसेकर आपने इस हालत से खुश ही है जैसा की उनके बयान से लगता है, और अगर खुश ना होते तो कनाडा छोड़ के भारत आने के लिए उनके पास रास्ते हमेशा है.

    ReplyDelete
  6. जो अनामी भाई ने लिखा यही मैंने भी सोंचा आखिर वो गए ही क्यों ..? फिर भी यहाँ भारत में स्थिति तो चिंताजनक है ही

    ReplyDelete
  7. वैसे हम आप की बात से सहमत हैं. अरविन्द जी की हाँ में हाँ भी मिला रहे हैं. धनलोलुपता ने ही इन सज्जन को विदेश जाने के लिए प्रेरित किया होगा.

    ReplyDelete
  8. प्रोफेसर विजय के साथ यह दुखद हुआ। कृषि वैज्ञानिक के लिये देश में ही सम्मानजनक स्थान होना चाहिये।
    ----
    शिव कुमार मिश्र की एसएमएस से भेजी श्री उदय प्रताप जी की पंक्तियां याद आती हैं:
    एक बार रवि के प्रति दैन्यभाव जागा।
    डूबने को चढ़ता है व्योम में अभागा।
    न बोला, और क्या फल होगा उसका;
    जो पूरब में जन्म ले कर पश्चिम को भागा।
    खैर, यह पंक्तियां विषयान्तर हैं।

    ReplyDelete
  9. Aapka aalrkh sochne ko majboor karta hai.

    ReplyDelete
  10. दुखद है यह ..पर सोचने का विषय भी है ..बहुत सी बाते हैं जो इस केस में विचारणीय है

    ReplyDelete
  11. बात कुछ हजम नहीं हो रही है .

    ReplyDelete
  12. बहुत विचार करने लायक लिखा है आपने. और बहुत ही चिंताजनक बात है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. स्वर्ण पदक प्राप्त वैज्ञानिक की योग्यता पर शक करना हमारे संदेहवाद का ही सूचक है हाँ हो सकता है उनका देश छोड़ना व्यक्तिगत निर्णय हो जिसके पीछे यहाँ के तंत्र से उपजी हताशा न हो जैसा कई मामलों में होता है.

    ReplyDelete
  14. मेने आप का लेख पढा, ओर सारी टिपण्णियां भी पढी... ओर बस मुस्कुरा दिया... हम सब बाते तो बहुत बडी बडी करते है, लेकिन जिस पत बीत रही होती है वो ही जानता है, कनाडा ही नही भुत से देशो मे हमारे भारतीया वैज्ञानिक , डा०, इन्जिंयर काम करते है, कारण क्या हमरे भारत मै बिना जानपहचान के, बिन सिफ़ारिस के, बिना रिशवत दिये, बिना अपना समम्मन खोये नोकरी मिलना आसान है? यह लोग किता पढते है, कितनी मेहनत करते है, फ़िर जा कर इन्हे डिगरी मिलती है, ओर जब नोकरी का समय आता है तो नोकरी के ले रिश्वत के लिये इअतना मुंह खोला जाता है कि सामने वाला अपने आप को लानत भेजता है, फ़िर निकम्मे नेता इन्हे अपने इशारो पर नचाना चाहते है, क्या लाभ फ़िर इतनी पढाई का, अगर यकीन नही तो मै आप को देता हुं दो तीन लोगो के पत्ते जिन्होने ऎम ऎ मै गोलड मेडल लिया ओर आज रिकक्षा चला रहे है, हमारे देश मै ही इन लोगो की कदर नही, कदर है तो गुंडो मवालियो की, जो अपने आप को भारत का राजा समझ्ते है, मुझे प्रोफ़ेसर विजय भोसेकर जी से सहानुभुति है, ओर फ़िर दुनिया मै कोन सा काम असम्‍मानजनक काम है ? आप मे से कोई मुझे बतायेगा, सब से असम्‍मानजनक काम है मां बाप के टुकडो पर ऎश करनी, दुसरो का हक मारना, चलाकी करनी, मेहनत कर के कमाना कोई असम्‍मानजनक काम नही है.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. benaami kahtey hain---अगर खुश ना होते तो कनाडा छोड़ के भारत आने के लिए उनके पास रास्ते हमेशा है.
    --paristhityan aisee ho jaati hain ki....aap wapas aane ke layak hi nahin rah jaate...ek immigration mein kitna khracha ata hai..aap hisaab lagaayeey..aur agar back home koi backing na ho..to koi rasta nahin bachta...bahut baar to achchey achchey logon ke paas..ticket afford karne ke paise nahin hote--yah sachhayee hai...

    Gaman movie to dekhi hogi aap ne -yah wahi sach bhi ho sakta hai---

    exceptional cases ke baare mein nahin kah rahi...yah bahuton ki kahani hai..US/canada mein...



    gaman movie dekhi thi??

    ReplyDelete
  16. hamne apne canada visit ke samay bahut aise asians se baat ki /miley jo in halaaton se gujar rahey hain...magar kush hain..har countries ke apne positive negative sided hain--


    rahi baat india mein pratibha ki--to Bihar mein ek mathmatician ke baare mein tV mein dekha tha..jinhen NASA se invitation mila tha..magar desh prem mein unhone reject ar diya..
    aaj wah schizophrenia nam ki bimari se bimaar hain aur ilaaj ke poore painse bhi nahi hain--un ki likhi ganit ki kitaaben school mein chalti hain..wahi kamaayee hai..bataayeeye..agar yahi vyakti wahan hote to aaj unki pratibha ka sahi upyog hua hota..
    western countries mein sabhi money ke liye jaatey hain aisa nahin hai..wahan talent ko encourage kartey hain..haal hi main..hamare parichit ke bete ko california mein uski acedemic excellency par..PG ki ek saal mein hi degree de di..aur ab PhD ka raha hai..har samy 24 hrs..ek chauffeur ready hota hai jab bhi Lab mein jana ho..
    ...achcha bura har jagah hai.Ek-do cases se generalise karna theek nahin hai.

    ReplyDelete
  17. बेहद दुखद स्थिति है..बात जो आप ने लिखी है वह बिल्कुल सही है..यह बात समीर जी भी जानते होन्गे.
    bahut si degrees wahan accept nahin hoti.
    is baat ka sabhi ko dhyan rakhna chaeeye..ki usee university ko select kare--jo UCG se affiliated ho.
    Canada bahut strict hai degree recognisitions ke mamle mein..

    yah ek kadwaa sabh hai ki wahan ek driver ko salary ek manager se jyada milti hai....

    aur bahut se aise bhi professionals hain jo wahan ka exam qualify nahin kar paatey aur phir jo job mil jaati hai wahi kar lete hain....social security hoti hai...

    Videsh mein jaane wale aur wahan jaa kar basne walon..ke liye aksar....wahan bas jaana ek majboori hoti hai....ek aisee gale mein fansi haddi..jo na nikaali jaati hai na nigali jaati hai...

    Jo bhi videshon mein jaane ka sochtey hain aaj ki sthityon mein nahin jaana chaheeye...bharat mein jo stability hai kahin nahin hai.

    ----
    Aap doctors ko taxi driver bane dekh saktey hain magar wah khush hai...ek anesthetist hai jo packing factory mein kaam kartey hain....

    yah sab sach hai...:)
    --ham ne apne canada pravaas ke dauraan is baare mein bahut logon se baat ki hai.. jinhen yah baat sach nahin lag rahi un ke liye bahut si sites bhi hain jahan testimonial evidence hain....
    lekin yah sach hai ki consumer act etc ke chaltey kuchh jobs bahut safe aur more income wali hain...kyonki western countries mein....dignity of labour hai jo INDIA mein nahin hai.

    ReplyDelete
  18. लगी-लगायी प्रोफेसर की नौकरी छोड कर विदेश जाने के पीछे सिवाय लोलुपता के ऒर कुछ नहीं लगता ऐसे ही समझदारों ने भारत का नाम डुबो रखा है भारत सरकार को ऐसे लोगों की डिग्रियां ही निरस्त कर देनी चाहिये

    ReplyDelete
  19. कनाडा के टोरांटो शहर से ही लिख रही हूँ इसलिये कनाडा के ऐसी परिस्थितियों से वाक़िफ़ भी हूँ। कई डाक्टर और इस तरह के वैज्ञानिक टोरांटो में ऐसे नौकरी कर रहे हैं जिन्हें यहाँ आड जब्स कहा जाता है। ये तभी तक जब तक कि वो रिक्वायर्ड क्रेडिट प्राप्त नहीं कर लेते। ये आर्टिकल आपने टोरांटो स्टार से लिया है और इस में कई अच्छी बातें भी हैं जैसे कि सिक्योरिटी गार्ड होने का न तो इन्हें दुख है, न ही पड़ोसी इन्हें नीची नज़र से देखते हैं।("The thing about Canada is, I don't feel I lose my dignity. People respect me for what I do.")
    ) इनके बच्चे अब अच्छी यूनिवर्सिटी में दाखिला पा चुके हैं और ये ख़ुद भी अपने डिग्री को यहाँ के मुताबिक अपग्रेड करने में लगे हैं आदि। मगर हाँ, किसी भी देश में इमिग्रेट करने से पहले हज़ार बार ये सोच कर आना चाहिए कि इसके क्या अच्छे और बुरे परिणाम हो सकते हैं और आपका गोल क्या है। अगर आप वो गोल हासिल नहीं कर सकते हैं तो आपका अगला क़दम क्या होना चाहिये। अल्पना जी का कमेंट भी काफ़ी महत्वपूर्ण है। वैसे सच है कि कुछ लोग सिर्फ़ कनाडा आने के लिये ही बस यहाँ आ जाते हैं, एक झिलमिलाती दुनिया का सपना देख कर...र नई जगह में बसने के अपने हार्ड शिप्स हैं और उन सबके लिये उन्हें तैयार तहना चाहिये।

    ReplyDelete
  20. mere comments mein UCG-ko-UGC padha jaye..

    UGC
    is ki bhartiy official site yah hai--

    http://www.ugc.ac.in/index.html

    jab bhi aap admission lete hain to yahan se apni university ki jaaanch jarur karen.

    yah videsh jana chahne walon ke liye pahla important step hai.

    ReplyDelete
  21. pandey ji ka dhyan is taraf jana bahut hi sarahne yogya hai...aaj hindustan me higher qualify degree liye log ache naukri ki talas me be-rojgar ghumte rahte hai...lekin ab agriculture sector me bahut badi karanti aane wali hai...reliance jaise company ne kheti karne ke liye hajaro acre land haryana me liya hai...mujhe lagta hai ki ab aane wale samay me degree holder's ko videsh jane ki jarurat nahi padegi...aur na hi videsh ja kar driver & guard ki naukri karni padegi...Gopal Ojha

    ReplyDelete
  22. विचारणीय आलेख-चिन्ताजनक सोच. जब लोग इतने बड़े, परिपक्व और जिम्मेदार होते हुए भीसिर्फ़ विदेश में बसने के लिए किसी भी तरह के समझौते करने के लिए तय्यार हो जाते हैं और बाद में भी खुश होने के बजाय इस नयी जिन्दगी की भी उसी तरह शिकायत करते नज़र आते हैं जिस तरह भारत में एक प्रतिष्ठित नौकरी में होते हुए करते थे तो इस बात पर ध्यान जाना स्वाभाविक है की कमी अपनी सोच में भी है.

    ReplyDelete
  23. और हाँ, भारत और अमेरिका में हुए अपने अनुभवों के आधार पर अरविन्द मिश्रा जी के कथन से पूर्ण सहमति है मेरी.

    ReplyDelete
  24. मौदगिल साहब का ज़ोर बिल्कुल सही है!

    ---
    तख़लीक़-ए-नज़र

    ReplyDelete
  25. Kheti aur usaki samsyaaon ki jaanakaari dene waala shodhparak blog.

    bahut achha prayas hai.

    ReplyDelete
  26. A Special Free Online English to Hindi Dictionary. Please do visit for review. EngHindi.com

    ReplyDelete

अपना बहुमूल्‍य समय देने के लिए धन्‍यवाद। अपने विचारों से हमें जरूर अवगत कराएं, उनसे हमारी समझ बढ़ती है।

Related Posts with Thumbnails
 
रफ़्तार Visit blogadda.com to discover Indian blogs Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा चिट्ठाजगत www.blogvani.com